भारत के महापुरुषों के वचन एवं नारे

नमस्कार दोस्तों DoStudyOnline में आपका स्वागत हैं आज के इस आर्टिकल के जरिये हम आपको प्रमुख महापुरुषों के नारों की सूचि देने जा रहे हैं और साथ ही आपको बतायेगे कि कौन सा नारा किसने दिया हैं

अगर आप एक Student हो या फिर एक टीचर हो तो ये भारत के महापुरुषों के वचन एवं जोशीले नारे आपकी Speech में बहुत काम के रहने वाले हैं

भारत के प्रमुख महापुरुषों के वचन एवं नारे

  • गाँधी अर्धनंगे फकीर है – चर्चिल
  • दिल्ली चलो – सुभाष चन्द्र बोस
  • तुम मुझे खुन दो मैं तुम्हें आजादी दूँगा। – सुभाष चन्द्र बोस
  • नेहरु देश भक्त है और जिन्ना राजनीतिज्ञ – मौलाना अबुल कलाम आजाद
  • भारत भूख से मर रहा है – दादा भाई नौरोजी
  • राजेन्द्र प्रसाद भारत के अजातशत्रु हैं – महात्मा गाँधी
  • सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है – राम प्रसाद बिस्मिल
  • सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्तां हमारा – मुहम्मद इकबाल
  • इंकलाब जिंदाबाद – भगत सिंह
  • दासता का नया चार्टर – जवाहर लाल नेहरु
  • भारतीय संस्कृति पूरी तरह से हिंन्दू है , न इस्लामी और न ही कुछ अन्य वह सबका संयोजन है। – महात्मा गाँधी
  • जो स्वदेशी राज्य होता है वह सर्वोपरि एवं उत्तम होता है – स्वामी दयानंद सरस्वती
  • हमने घुटने टेक कर रोटी माँगी, किन्तु उत्तर में पत्थर मिले – महात्मा गाँधी
  • यह एक ऐसा चेक था जिसका बैंक पहले ही नष्ट होने वाला था – महात्मा गाँधी
  • भारत का विभाजन मेरी लाश पर होगा, जब तक मैं जीवित रहूँगा, तब तक भारत का विभाजन नहीं होने दूँगा – महात्मा गाँधी
  • हमने सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए सिर कटवाना बेहतर समझा – जवाहरलाल नेहुरु
  • यदि हम पाकिस्तान की माँग स्वीकार नहीं किए, तो देश में अनेक पाकिस्तान बन जाँएगे – सरदार बल्लभ भाई पटेल
  • मैं स्वभाव से ही समाजवादी हूँ – जवाहरलाल नेहरु
  • वेदों की ओर लोटो – स्वामी दयानंद सरसवती
  • वंदेमातरम् – बंकिम चन्द्र चटर्जी
  • आराम हराम है – पंडित जवाहर लाल नेहरु
  • समूचाभारतएकविशालबंदीगृह है – चितरंजन दास
  • क्रान्ति की तलवार मे धार वैचारिक पत्थर पर रगड़ने से होती है। – भगत सिंह
  • यदि हम साल में एक बार मेढ़क की तरह टर्रोते हैं, तो हमें अपने प्रयासों में सफलता नहीं मिलेगी – बाल गंगाधर तिलक
  • काँग्रेस धीरे – धीरे लड़खड़ा कर गिर रही है और भारत में रहते हुए भी मेरी यह बहुत बड़ी आकाक्षा है कि मैं इसकी शांतिर्पूण मृत्यु में सहायक बनूँ – लार्ड कर्जन
  • मेरे शरीर पर पड़ी एक एक लाठी ब्रिटिश साम्राज्य के ताबूत में कील सिध्द होगी – लाला लाजपत राय
  • स्वतंत्रता मेरा जन्म सिध्द अधिकार है, और मैं इसे लेकर रंहूँगा – बाल गंगाधर तिलक
  • में देश के बालू से ही काँग्रेस से भी बड़ा आन्दोलन खड़ा कर दूँगा – महात्मा गाँधी
  • स्वराज्य हमारा जन्मसिध्द अधिकार है – लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक
  • काँग्रेस का अधिवेशन तीन दिन का तमाशा है – अश्विनी कुमार दत्त
  • पब्लिक सेफ्टीबिल भारतीय गुलामी का नम्बर एक विधेयक है – मोती लाल नेहरु
  • राष्ट्रीय काँग्रेस का जन्म मातृभूमि की रक्षा के हित प्रमुख भारतीयों तथा ह्यूम साहब के बीच हुआ। – ऐंनी बेसेंट
  • ह्यूम स्वतंत्रता के पुजारी थे – लाला लाजपत राय
  • भारत ने अपनी आवाज कांग्रेस से पाई है। – मदन मोहन मालवीय
  • काँग्रेस की आवाज जनता की आवाज नहीं है – फिरोजशाहा मेहता
  • हमारा आदर्श दया, याचना नहीं, आत्मनिरर्भरता है – बाल गंगाधर तिलक
  • जिन्ना राजनीतिज्ञ है, नेहरु राष्ट्र भक्त है- मौलाना अबुल कलाम आजाद
  • हिन्दु मुस्लिम भारतमाता की दो आँखे हैं – सर सैय्यद अहमद खाँ
  • शिमला सम्मेलन एक दुर्घटना है – मौलना अबुल कलाम आजाद
  • अगर मनुष्य में दिव्यता हो सकती थी वह नौरोजी में थी – गोपाल कृष्ण गोखले
  • कर्जन ने वही किया जो औरंगजेब ने किया – गोपाल कृष्ण गोखले
  • जिन्ना विभाजन चाहते हैं या नहीं हम स्वयं विभाजन चाहते हैं – सरदार बल्लभ भाई पटेल
  • इंग्लैण्ड हमारा पथ प्रदर्शक है – सुरेन्द्र नाथ बनर्जी
  • गोखले स्वशासन के महान देवदूत थे – मोतीलाल नेहरु
  • गोखले भारत के प्रथम कूटनीतिज्ञ थे – जवाहर लाला नेहरु
  • क्रिप्स मिशन एक ऐसे बैंक का चैक है जो टूट रहा है- जवाहर लाल नेहरु
  • क्रिप्स शैतान के वकील हैं – जवाहर लाल नेहरु
  • हिंदु , मुस्लिम मुख्यतया दो राष्ट्र है – वीर सावरकर
  • भारत एक और सूत्र में बधा राष्ट्र नहीं माना जा सकता – वीर सावरकर
  • मैं स्वाधीन भारत में मरना चाहता था, पंरन्तु मेरी इच्छा न हो। – मोती लाल नेहरु
  • भारत के मुसलमान स्वतः में एक राष्ट्र है – जफरुल हुसैन
  • मैं विद्रोही हूँ स्वराज विद्रोह आवश्यक है – चितरंजन दास
  • हमें पाकिस्तान अथवा आत्म हत्या में से एक को चुनना है – गोविंदवल्लभ पंत
  • हमारा नारा है नष्ट करो नष्ट करो – चितरंजन दास
  • मैं विद्रोही हूँ, मैने कांग्रेस से विद्रोह किया है – चितरंजन दास
  • भगत सिंह और इकबाल का एक ही अर्थ है – सुभाष चन्द्र बोस
  • मैं भारत का भिखारी हूँ – मदन मोहन मालवीय
  • सारी हिंदुत्व प्रणाली पश्चिम से बढकर है – ऐनी बेंसेट
  • अरविंन्द घोष एक उल्फा थे – पं0 जवाहर लाल नेहरु
  • असहयोग आन्दोलन एक मूर्खतापूर्ण विरोध है – ऐनी बेंसेट
  • क्राँन्ति का अभिप्राय बंदूक व पिस्तौल नहीं – भगत सिंह
  • भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस भीख माँगने वाली संस्था है – बाल गंगाधर तिलक
  • पाकिस्तान का निर्माता जिन्ना या मोहम्मद इकबाल नहीं वरन लार्ड मिंटो था – राजेन्द्र प्रसाद
  • यदि ईश्वर अस्पृश्यता को सहन करने लगे तो मैं ऐसे ईश्वर की भी मान्यता नहीं दूँगा – बाल गंगाधर तिलक
  • हर मूल्य पर स्वाबलम्ब है – लाला लाजपत राय
  • महात्मा गाँधी भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन में एक मात्र ऐसे व्यक्ति थे जो आन्दोलन को लगातार सन् 1917 ई0 से 1947ई0 तक केवल अंहिसा के बल पर आन्दोलन को अंग्रेजो के खिलाफ सक्रिय रखा – एक अज्ञात विचारक के शब्दो में
संस्कृत में फूलों के नाम
जानवरों के नाम संस्कृत में
शरीर के अंगो के नाम संस्कृत में
SSC कैसे करे?

महापुरुषों के वचन एवं नारे से संबंधित प्रश्न-उत्तर

सुभाष चन्द्र बोस

गोविंदवल्लभ पंत

चितरंजन दास

मौलाना अबुल कलाम आजाद

सुभाष चन्द्र बोस

दादा भाई नौरोजी

राम प्रसाद बिस्मिल

लार्ड एटली

महात्मा गाँधी

मुहम्मद इकबाल

भगत सिंह

जवाहर लाल नेहरु

महात्मा गाँधी

स्वामी दयानंद सरस्वती

महात्मा गाँधी

महात्मा गाँधी

महात्मा गाँधी

सरदार बल्लभ भाई पटेल

जवाहरलाल नेहरु

जवाहरलाल नेहुरु

स्वामी दयानंद सरसवती

बंकिम चन्द्र चटर्जी

पंडित जवाहर लाल नेहरु

चितरंजन दास

भगत सिंह

लाला लाजपत राय

बाल गंगाधर तिलक

राजेन्द्र प्रसाद

बाल गंगाधर तिलक

भगत सिंह

ऐनी बेंसेट

मदन मोहन मालवीय

पं0 जवाहर लाल नेहरु

ऐनी बेंसेट

सुभाष चन्द्र बोस

जफरुल हुसैन

मोती लाल नेहरु

वीर सावरकर

वीर सावरकर

जवाहर लाल नेहरु

जवाहर लाल नेहरु

जवाहर लाला नेहरु

मोतीलाल नेहरु

सुरेन्द्र नाथ बनर्जी

सरदार बल्लभ भाई पटेल

गोपाल कृष्ण गोखले

गोपाल कृष्ण गोखले

मौलना अबुल कलाम आजाद

सर सैय्यद अहमद खाँ

मौलाना अबुल कलाम आजाद

बाल गंगाधर तिलक

फिरोजशाहा मेहता

मदन मोहन मालवीय

लाला लाजपत राय

यदि हम साल में एक बार मेढ़क की तरह टर्रोते हैं, तो हमें अपने प्रयासों में सफलता नहीं मिलेगी

बाल गंगाधर तिलक

लाला लाजपत राय

बाल गंगाधर तिलक

महात्मा गाँधी

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक

अश्विनी कुमार दत्त

मोती लाल नेहरु

ऐंनी बेसेंट

आशा करता हूँ आप सभी को हमारा ये आर्टिकल भारत के महापुरुषों के वचन एवं नारे पसंद आया होगा तो इसको आप अपने Study Group में Share कर सकते हैं

Leave a Comment